"हिन्दी लोकोक्ति भाग - 1" के अवतरणों में अंतर

चार दिन की चाँदनी फिर अँधेरी रात : थोड़े दिनों के लिए सुख तथा
आमोद-प्रमोद और फिर दु:ख.
<BR/> <BR/>
चाह है तो राह भी : जब किसी काम के करने की इच्छा होती है तो
उसकी युक्ति भी निकल आती है।
 
===छ===
४११

सम्पादन