w
विकिपीडिया पर संबंधित पृष्ठ :

क्रोधसंपादित करें

  • एक क्रोधित व्यक्ति अपना मुंह खोल लेता है और आँख बंद कर लेता है।
  • क्रोध मूर्खों के ह्रदय में ही बसता है।
  • क्रोध वह हवा है जो बुद्धि के दीप को बुझा देती है।
  • क्रोध मनुष्य के विनाश का कारण बनती है।

कवितासंपादित करें

बाहरी कडियाँसंपादित करें