• दिने दिने हि भूतानि प्रविशन्ति यमालयम्।
शेषास्थावरमिच्छन्ति किमाश्चर्यमतः परम्॥ -- महाभारत, यक्ष-प्रश्न
प्रतिदिन ही प्राणी यम के घर में प्रवेश करते हैं, शेष प्राणी अनन्त काल तक यहाँ रहने की इच्छा करते हैं। क्या इससे बड़ा कोई आश्चर्य है?
  • ऊपर सितारों की तरफ देखो अपने पैरों के नीचे नहीं। जो देखते हो उसका मतलब जानने की कोशिश करो और आश्चर्य करो की क्या है जो ब्रह्माण्ड का अस्तित्व बनाये हुए है। उत्सुक रहो। -- स्टीफन हॉकिन्स
  • आश्चर्य, ज्ञान का आरम्भ है। -- सुकरात
  • आश्चर्य से दर्शन की उत्पत्ति होती है। -- ए एन व्हाइटहेड, नेचर ऐण्ड लाइफ में
  • मानव आश्चर्य करने के लिये ही जागता है। विज्ञान उसे पुनः सुलाने का एक तरीका है। -- लुडविग विटगेन्स्टीन