अन्न

ऐसा कोइ भी पदार्थ जो शर्करा (कार्बोहाइड्रेट), वसा, जल तथा/अथवा प्रोटीन से बना हो और जीव जगत द्वारा ग
  • सह नाववतु, सह नौ भुनक्तु, सह वीर्यम् करवावहै।
तेजस्विनावधीतमस्तु मा विद्विषावहै॥ -- (भोजन मन्त्र) कृष्ण यजुर्वेद
हम दोनों (गुरु और शिष्य) की साथ-साथ रक्षा करें। हम दोनों का साथ-साथ पालन करें। हम दोनों को साथ-साथ वीर्यवान (पराक्रमी) बनाएं। हम जो कुछ पढ़ते हैं, वह तेजस्वी हो। हम गुरु और शिष्य एक दूसरे से द्वेष न करें।
  • ॐ यन्तु नदयो वर्षन्तु पर्जन्या सुपिप्पला ओषधयो भवन्तु ।
अन्नवतां ओदनवतां मामिक्षवतां एषां राजा भूयासम् ॥
ओदनमुत्ब्रुवते परमेष्ठीवा एष यदोदनः ।
परमामेवैनं श्रियं गमयति ॥ (भोजन मन्त्र) बौधायन श्रौत सूत्र
नदियाँ बहें और बादल बरसें। औषधीय पौधे फलें-फूलें और सभी पेड़ फल दें। मैं चावल और दुग्ध आदि पैदा करने वाले लोगों का हितैषी बनूं। थाली में परोसा गया पका हुआ भोजन ईश्वर की ओर से एक उपहार है जिसके सेवन से उच्चतम स्तर की समृद्धि और कल्याण होगा।
  • पृथिव्यां त्रिणी रत्नानि जलमन्नं सुभाषितम् ।
पृथ्वी पर तीन रत्न हैं- जल, अन्न और सुभाषित
  • युक्ताहारविहारस्य युक्तचेष्टस्य कर्मसु ।
युक्तस्वप्नावबोधस्य योगो भवति दु:खहा ॥ -- गीता
मनुष्य के शरीर-मन आदि के जितने रोग हैं; अगर मनुष्य युक्त आहार, युक्त विहार व युक्त चेष्टाएं करे, तो उसे कोई दुःख व रोग नहीं होगा । परन्तु हम भगवान के बताए गए रास्ते पर चल नहीं पाते हैं । हम अयुक्त आहार करते हैं, अयुक्त विहार करते हैं और अयुक्त चेष्टाएं करते हैं; इसलिए दु:ख पाते हैं।
  • आयुः सत्त्ववला रोग्यसुखप्रीतिविवर्धनः।
रस्याः स्निग्धाः स्थिरा हृद्या आहाराः सात्विकप्रियाः॥ -- गीता, अध्याय 17, श्लोक 8
जो भोजन सात्विक व्यक्तियों को प्रिय होता है, वह आयु बढ़ाने वाला, जीवन को शुद्ध करने वाला तथा बल, स्वास्थ्य, सुख तथा तृप्ति करने वाला होता है। ऐसा भोजन रसमय, स्निग्ध, स्वास्थ्यप्रद तथा ह्रदय को भाने वाला होता है।
कट्वम्ललवणात्युष्णतीक्ष्णंरूक्षविदाहि
आहारा राजसस्येष्टा दुःखशोकामयप्रदाः॥ -- गीता, अध्याय 17, श्लोक 9
अत्यधिक तिक्त (कड़वे), खट्टे, नमकीन, गरम, चटपटे, शुष्क, तथा जलन उत्पन्न करने वाले भोजन रजोगुणी व्यक्तियों को प्रिय होते हैं। ऐसे भोजन दुःख, शोक तथा रोग उत्पन्न करने वाले हैं।
  • जीर्णे हितं मितं चाद्यात् [१]
पूर्वभोजन के जीर्ण होने (पचने) पर ही हितकर व मित (अल्प) भोजन करना चाहिए।
  • कोऽरुक् कोऽरुक् कोऽरुक्  ? हितभुक् मितभुक् ऋतभुक् ।
कौन स्वस्थ है, कौन स्वस्थ है, कौन स्वस्थ है? (जो) हितकर भोजन करता है, जो कम भोजन करता है, जो सच्चाई का अन्न खाता है।
  • जीर्णे भोजनमात्रेयः लङ्घनं परमौषधम् ।
भावार्थ : पूर्वभोजन के जीर्ण होने पर ही भोजन करना चाहिए। यदि कभी प्रमाद से अजीर्ण हो जाए तो लंघन (उपवास) उसकी परम औषधि है।
  • हिताहारा मिताहारा अल्पाहाराश्च ये जनाः।
न तान् वैद्याश्चिकत्सन्ति आत्मनस्ते चिकित्सकाः॥ -- महर्षि चरक
अर्थात् जो व्यक्ति हिताहारी (हितकर आहार करने वाले), मिताहारी (परिमित, नपा तुला, न अधिक न कम आहार करने वाले) तथा कभी- कभी अल्पाहारी (कम भोजन या उपवास करने वाले) होते हैं, उनकी चिकित्सा वैद्य लोग नहीं करते, प्रत्युत वे अपने चिकित्सक स्वयं होते हैं।
  • आहारमग्निः पचति दोषानाहारवर्जितः।
धातून् क्षीणेषु दोषेषु जीवितं धातुसंक्षये॥ (अष्टाङ्गहृदय, चिकित्सास्थान-१०.९१)
जठराग्नि आहार को पचाती है, यदि उसे आहार नहीं मिले तो बढ़े हुए दोषों को पचाती है, नष्ट करती है। दोषों के क्षीण होने पर भी उपवास किया जाएगा तो जठराग्नि रस-रक्त आदि धातुओं को जलाने लगती है व शरीर कृश होने लगता है तथा अन्त में जीवन को नष्ट कर देती है। (अतः उतना उपवास या अल्पाहार करना चाहिए जिससे दोष तो नष्ट हो जाएं, परन्तु शरीर की क्षीणता का अवसर न आए।)
  • सम्पन्नतरमेवान्नं दरिद्रा भुञ्जते सदा।
क्षुत् स्वादुतां जनयति सा चैवाढ्येषु दुर्लभा॥ (विदुरनीतित- २.५१)
कठोर श्रम से जीविकोपार्जन करने वाले दरिद्र लोग सदा स्वादिष्ठ भोजन करते हैं, क्योंकि भूख स्वाद पैदा कर देती है और वह धनी लोगों में प्रयः दुर्लभ होती है।
  • जैसा अन्न, वैसा मन ।
  • मुझे बता दो कि तुम क्या खाते हो और मैं बता दूँगा कि तुम क्या हो। (Jean Anthelme Brillat-Savarin, Physiologie du Gout (1825))
  • आदमी जैसा खाता है, वैसा बन जाता है।
  • अन्न का दान परम दान है।
  • रूखा सूखा काय के ठण्डा पानी पीव। देखि पराई चूपड़ी मत ललचावै जीव ॥ (कबीर)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें