"भीमराव आम्बेडकर" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
 
'''मनुष्य नश्वर हैं। ऐसे विचार होते हैं। एक विचार को प्रचार-प्रसार की जरूरत है जैसे एक पौधे में पानी की जरूरत की जरूरत होती है। अन्यथा दोनों मुरझा जायेंगे और मर जायेंगे।'''
डॉ।डॉ. बी।बी. आर।आर. अम्बेडकर
'''जीवन लम्बा होने की बजाय महान होना चाहिए।'''
डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर
'''हर व्यक्ति जो मिल का सिद्धांत जानता हो कि एक देश दूसरे देश पर राज करने में फिट नहीं है, उसे ये भी स्वीकार करना चाहिये कि एक वर्ग दुसरे वर्ग पर राज करने में फिट नहीं है।'''
~ डॉ।डॉ. बी।बी. आर।आर. अम्बेडकर
'''उदासीनता लोगों को प्रभावित करने वाली सबसे खराब किस्म की बीमारी है।'''
डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर
'''यदि मुझे लगा कि संविधान का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो मैं इसे सबसे पहले जलाऊंगा।'''
डॉ।डॉ. बी॰ आर॰ अम्बेडकर
'''समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा।'''
डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर
बेनामी उपयोगकर्ता