"मुखपृष्ठ" के अवतरणों में अंतर

१२० बैट्स् नीकाले गए ,  १ वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(आज की सूक्ति)
<div style="padding-top: 0.4em; padding-bottom: 0.3em;"><table border=0 align="center" cellpadding="0" cellspacing="0">
<tr>
<div style="background: #ffffff; padding-top: 0.1em; padding-bottom: 0.1em; text-align: center; font-size: larger; width: 100%"> व्यक्तिदूसरों अकेलेकी पैदागलतियों होतासे हैसीखो। औरतुम अकेलेकभी मरइतना जातालम्बा है;औरनहीं वोजी अपनेसकते अच्छेकी औरसारी बुरे कर्मों का फलगलतियाँ खुद ही भुगतता है; और वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग जाता है।करो। - [[चाणक्यग्रुशो मार्क्स]] </div></td>
 
</tr>
६९

सम्पादन