"कृष्ण" के अवतरणों में अंतर

५८ बैट्स् जोड़े गए ,  ५ वर्ष पहले
→‎उक्तियाँ: अनुवाद को सही जगह किया
(→‎उक्तियाँ: यह एक ही श्लोक है।)
(→‎उक्तियाँ: अनुवाद को सही जगह किया)
 
* ''सत्त्वानुरूपा सर्वस्य श्र्द्धा भवति भारत।<br>श्रद्धामयोऽयं पुरुषो यो यच्छृद्धः स एव सः।''
**हे अर्जुन! हर व्यक्ति का विश्वास उसकी प्रकृति (संस्कारों) के अनुसार होता है। मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है। वह जो चाहे बन सकता/सकती है, (यदि वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगातार चिंतन करे।करे)।
**'''श्रीमद्भगवद्गीता''' १७:०३
 
*
* हर व्यक्ति का विश्वास उसकी प्रकृति के अनुसार होता है।
 
==बाहरी कडियाँ==
७५६

सम्पादन