"कृष्ण" के अवतरणों में अंतर

१ बैट् नीकाले गए ,  ५ वर्ष पहले
छो
(→‎उक्तियाँ: + संस्कृत सूत्र)
छो (→‎उक्तियाँ: formatting)
 
* ''श्रद्धामयोऽयं पुरुषो यो यच्छृद्धः स एव सः।''
: **मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है.जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।
** ''श्रीमद्भगवद्गीता'' (१७.०३)
 
* प्रबुद्ध व्यक्ति के लिए, गंदगी का ढेर, पत्थर, और सोना सभी समान हैं।
७५६

सम्पादन