"कृष्ण" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  ५ वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
==कृष्ण==
* ज्ञानी व्यक्ति ज्ञान और कर्म को एक रूप में देखता है, वही सही मायने में देखता है.|
* अपने अनिवार्य कार्य करो, क्योंकि वास्तव में कार्य करना निष्क्रियता से बेहतर है.|
* मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है.जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है.|
* प्रबुद्ध व्यक्ति के लिए, गंदगी का ढेर, पत्थर, और सोना सभी समान हैं.|
* व्यक्ति जो चाहे बन सकता है यदी वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगातार चिंतन करे.|
 
* हर व्यक्ति का विश्वास उसकी प्रकृति के अनुसार होता है.|
*व्यक्ति जो चाहे बन सकता है यदी वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगातार चिंतन करे.
 
*हर व्यक्ति का विश्वास उसकी प्रकृति के अनुसार होता है.
 
==कविता==
बेनामी उपयोगकर्ता