रामचंद्र शुक्ल(४ अक्तूबर १८८४ - २ फ़रवरी १९४१) हिन्दी आलोचक, निबंधकार, साहित्येतिहासकार, कोशकार, अनुवादक, कथाकार, और कवि थे।

रामचंद्र शुक्ल

रामचंद्र शुक्लसंपादित करें

  • "जिस प्रकार आत्मा की मुक्तावस्था ज्ञानदशा कहलाती है, उसी प्रकार हृदय की मुक्तावस्था रसदशा कहलाती है।"। ——रामचंद्र शुक्ल

बाहरी कड़ियांसंपादित करें

विकिपीडिया पर संबंधित पृष्ठ :