मुख्य मेनू खोलें

विकिसूक्ति β

किरण बेदी

उक्तियाँसंपादित करें

  • हम बदलाव की शुरुआत अपने घरों,आस–पड़ोस की जगहों,बस्तीयों,गावों,और स्कूलों से कर सकते हैं।
  • जो लोग समय रहते अपने जीवन का चार्ज नहीं ले लेते वे समय द्वारा लाठी चार्ज किये जाते हैं।
  • मौजूदा दृष्टिकोण में प्रबल बदलाव के बिना सम्बन्ध नहीं बन सकते।
  • मैंने हमेशा से अपने अन्दर वंचित लोगों के लिए जीने और सेवा करने का उत्साह पाला है।
  • आगे बढ़ने के लिए खुद से चुने गए अभ्यास हैं।
  • काम मुझे ‘ख़ुशी’ देता है और हर एक शुरुआत स्वयं की खोज का एक रास्ता है।
  • समृद्ध आधुनिक पलस्तर सबसे पुराने पेशे को फलने -फूलने देगा …और जब सौदा बुरा होगा तो महिलाएं बेईमानी होने का रोना रोयेंगी।
  • जो लोग समय रहते अपने जीवन का चार्ज नहीं ले लेते वे समय द्वारा लाठी चार्ज किये जाते हैं।
  • आचार्संघिता, शालीनता और नैतिकता असली सैनिक हैं।
  • वो कितनी बड़ी राष्ट्रीय क्रांति होगी अगर हम्मे से हर कोई खुद को शाशित करने लगे।
  • बिना शाशक और शाशित के बीच की दूरी कम किये भ्रष्टाचार को नहीं मिटाया जा सकता।
  • मेरे अजेंडे में कुछ भी बाकी नहीं है। मैं जिस दिन जो कुछ कर सकती हूँ करती हूँ, आसान है! अगर मुझे आज मरना होता तो मैं कोई काम बाकी छोड़ कर नहीं मरती।

बाहरी कडियाँसंपादित करें

विकिपीडिया पर संबंधित पृष्ठ :